गुरुवार, 4 जून 2020

आज का पंचांग 5 जून 2020

आज का पंचांग::
5 जून 2020, शुक्रवार, विक्रमी सम्वत 2077,  शुक्ल पक्ष, ग्रीष्म ऋतु, तिथि पूर्णिमा, नक्षत्र अनुराधा सायं 4:44 तक तदनन्तर ज्येष्ठा, , राहुकाल प्रातः 10:30 से 12:00 तक
 जयेष्ठ पूर्णिमा, वटसावित्री व्रत (पूर्णिमा-पक्ष), सन्त कबीर जयन्ती, श्रीसत्यनारायण व्रत, गण्डमूल विचार सायं 4:44 से

आज का राशिफल  5 जून 
मेष राशि।

 पण्डितजी का आज के दिन के बारे में क्या कहना है -

करियर में बदलाव का प्रयास न करें। पढ़ाई से मन उचट सकता है। शरीर में आलस्य की अधिकता रहेगी। ऑनलाइन धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं, इसलिए थोड़ी सतर्कता रखनी होगी। शाम के समय जीवनसाथी की बात बुरी लग सकती है।

वृष राशि।

जानिए पण्डितजी का आज के दिन के बारे में क्या कहना है -

जीवनसाथी के प्रति केयरिंग रहेंगे। व्यापार में अच्छा लाभ होगा। पूरा दिन व्यस्त रहने वाले हैं। अधूरे कार्यों को पूरा कर लेंगे। पुराने प्रयासों का शुभ परिणाम मिलेगा। जिम्मेदारियों का अच्छी तरह निर्वहन करेंगे।

मिथुन राशि ।दाम्पत्य जीवन में मधुरता रहेगी। पारिवारिक रिश्ते प्रगाढ़ रहेंगे। स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहेगा। आपमें ऊर्जा की कमी रहेगी। कार्यों की बाधायें दूर होंगी। जॉब में चुनौतियाँ बढ़ने की आशंका रहेगी।

कर्क राशि।

परिस्थितियों का सही तरह से आकलन कर पाने में समस्या आयेगी। प्रेम-सम्बन्ध में कटुता आ सकती है। बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर कुछ चिन्ता रहेगी। निजी रिश्ते खराब हो सकते हैं। निर्णय लेने में समस्या आयेगी।

सिंह राशि।

अपने कार्यों पर पूरी तरह फोकस नहीं कर पायेंगे। कोर्ट-कचहरी के मामलों में समस्या आ सकती है। दूसरों की भावनाओं का ध्यान रखें। सम्पत्ति के विवादों का आज निपटारा कर सकते हैं। जीवन में हो रहे परिवर्तन को स्वीकारने में कठिनायी महसूस करेंगे।

कन्या राशि।सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर भाग लेंगे। लम्बी दूरी की यात्रा लाभदायक रहेगी। बिजनेस पार्टनर्स के साथ सम्बन्ध प्रगाढ़ होंगे। आपको करियर में शानदार बदलाव देखने को मिल सकते हैं। आपका स्वार्थी व्यवहार लव पार्टनर को दुखी कर सकता है।

तुला राशि।

धन प्राप्ति के नये रास्ते प्राप्त होंगे। कार्यों में व्यस्तता होने के योग बन रहे हैं। जॉब में स्वास्थ्य की समस्याओं के कारण अवरोध आ सकता है। पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वहन करेंगे। आज दिन भर व्यस्तता के कारण प्रोफेशनल और दाम्पत्य जीवन में सन्तुलन बैठाने में कठिनायी महसूस होगी।

वृश्चिक राशि।

आज काफी उत्साहित और सकारात्मक ऊर्जा से युक्त रहेंगे। कठिन कार्यों को आसानी से कर लेंगे। नौकरी में मनचाही परिस्थितियाँ मिलेंगी। शत्रु कमजोर रहेंगे। पुरानी बातों को भूलकर आज आगे बढ़ना बेहतर होगा।

धनु राशि।

नकारात्मक लोगों के सम्पर्क में आने से बचें। दिनचर्या थोड़ी अनिश्चित रहेगी। ऐसे काम करने पड़ सकते हैं जिसके बारे में सोचा भी न था। शाम के समय रोमांटिक मूड में रहेंगे। कारोबार में कुछ कठिनायी आ सकती है।

मकर राशि।

सेहत को लेकर सचेत रहेंगे। आपकी सामाजिक छवि उत्कृष्ठ रहेगी। लोग आपके विचारों से प्रभावित रहेंगे। कारोबार में शानदार लाभ होगा। किसी बीमारी से मुक्ति मिलेगी। लव लाइफ में पार्टनर के व्यवहार से अभिभूत रहेंगे।

कुम्भ राशि।

महिलाओं को आज घर पर काफी काम करना पड़ेगा। अपने रिश्तों को पर्याप्त महत्व दें। विदेश में रह रहे परिजनों और शुभचिन्तकों की कुशल क्षेम लेंगे। अपने आत्मविश्वास को कम न होने दें। घर पर मनोरंजन के लिये आज कोई फिल्म देखेंगे।

मीन राशि।

अनावश्यक विवाद होने के योग बन रहे हैं। कुछ नयी तकनीक सीखने का प्रयास कररेंगे। इस समय आपको अपने घर-परिवार को समय देना चाहिये। वरिष्ठ अधिकारी आपसे बेहद प्रसन्न रहेंगे। विद्यार्थियों को पढ़ाई में सफलता मिलेगी।

आपका दिन मंगलमय हो।

बुधवार, 20 मई 2020

राजनीति के कुरुक्षेत्र में छिड़ गया युद्ध फिर आज

राजनीति के कुरुक्षेत्र में छिड़ गया युद्ध फिर आज

राजनीति के कुरुक्षेत्र में छिड़ गया युद्ध फिर आज
कभी बेबस कभी बेसहारा कभी मजबूर का मिल रहा ताज
प्यादा भी वहीँ रण भी वही सिर्फ बदला पक्ष और विपक्ष
जिनको बनकर स्तंभ चौथा करना था कार्य निष्पक्ष
कर लिया सौदा आज उसने संकट के इस क्षण में
कर लो तुम भी उनकी मृत्यु का सौदा आज उस रण में
मातृ भूमि क्षमा न करेगी तुम्हे इस कृत्य को
जब बांध के आँखों को तुम्हारी देगी सज़ा उसी कृत्य को
प्रजा राजा और रंक सभी खेल रहे खेल ऐसे
बेबस बेसहारा और मजबूर हो गया हर कोई जैसे
क्यों न दिखती तुमको एक बेबस तड़पते पिता की पुकार
जब वो आज रो रो कर दे रहा जीवन को धिक्कार
ASHISH C TRIPATHI

शुक्रवार, 24 जनवरी 2020

इस बसंत पंचमी को बन रहा है यह विशेष योग करे यह कार्य। ..



इस बसंत पंचमी को बन रहा है यह विशेष योग करे यह कार्य। ..


30  जनवरी 2020  माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को बसंत पंचमी का पर्व मान्य जायेगा / हिन्दू मान्यता के अनुसार इस तिथि का विशेष महत्व तो है ही  बार बसंत पंचमी  कुछ विशेष योग को लिए हुए भी है माँ सरस्वती को विद्या के देवी कहा जाता है और इस बार बसंत पंचमी  को सर्वार्ध सिद्ध योग के साथ सिद्ध  योग भी बन रहा है / इस दिन गुरुवार व उतराभाद्रपद नक्षत्र होने से सिद्धि योग बनेगा। इसी दिन सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा। दोनों योग रहने से वसंत पंचमी की शुभता में और अधिक वृद्धि होगी।
हिन्दू पंचांग में कुछ ऐसे मुहूर्त होते है  जो स्वयं में सिद्ध होते है ऐसे महूर्त में आप  कई महत्वपुर्ण कार्यो का  आरम्भ  कर सकते है ऐसे ही बसंत पंचमी के दिन वाग्दान, विद्यारंभ, यज्ञोपवीत आदि  संस्कारों व अन्य शुभ कार्यों को कर सकते है /

बसंत पंचमी को बन रहा यह संयोग


इस बसंत पंचमी शुक्ल पक्ष माघ मास को कुछ विशेष  योग  संयोग  भी बन रहा है / क्योंकि वर्षो के बाद तीन ग्रह अपनी  राशि में स्थित होने / जहा गुरुदेव बृहस्पति खुद की धनु राशि में होंगे वही सेनापति मंगल अपनी ही  वृश्चिक राशि में स्थित होंगे / न्याय के देवता शनि देव  मकर में  आ चुके होंगे /
मांगलिक कार्यो के अनुसार या योग व ग्रहो की स्थित बड़ी ही शुभ मानी गई है /

पंचमी तिथि कब है

अलग अलग पंचांगों के अनुसार कुछ में पंचमी तिथि को 29 जनवरी तो कुछ पंचांगों में पंचमी तिथि 30 जनवरी की कही जा रही है / जबकि बुधवार को पंचमी तिथि 10 :46 मिनट पर सुबह शुरू होगी और गुरुवार को  पंचमी तिथि दोपहर 1 :20  मिनट तक ही रहेगी / अतः धर्मसिंधु आदि ग्रंथों के अनुसार यदि चतुर्थी तिथि विद्धा पंचमी होने से शास्त्रोक्त रूप से 29 जनवरी बुधवार को वसंत पंचमी मनाना श्रेष्ठ रहेगा।

सरस्वती पूजन का महत्व

बसंत को ऋतुओ का राजा कहा  है और इस दिन ही ज्ञान और बुद्धि की देवी माँ सरस्वती के प्राकट्य दिवस के रूप में भी मनाया जाता है / इस दिन विशेषकर माँ सरस्वती  और भगवान विष्णु की पूजा अर्चना कर ज्ञान और बुद्धि के रूप में आशीर्वाद प्राप्त  करते  है / इस मौके पर विशेष कर विद्यार्थी , स्कूल और गायन के क्षेत्र के लोग लेखनी और अपने वाद्य यंत्रो की पूजा आदि करते  है/   
Show quoted text

गुरुवार को करे यह उपाय मिलेगी मनचाही सफलता :

गुरुवार को करे यह उपाय मिलेगी मनचाही सफलता : बच्चे का पढ़ाई में मन न लगता हो  बार बार हो रहा हो फेल तो करे यह उपाय मिलेगी सफलता 
अक्सर यह देखने में आता है की बच्चे का या तो पढ़ाई में मन  नहीं लगता है और लगता भी है तो बार बार फेल हो जाता है। अगर आप भी ऐसी ही समस्या से परेशान तो आसान सा घरेलु उपाय आपकी संतान की इस समस्या को दूर करके सफलता सफलता के दरवाजे खोल देगा।  बस यह छोटा सा उपाय आपके बच्चे को उसकी परीक्षा में सफलता जरूर दिलाएगा।
 आपको बस इतना करना है की आपको की शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार को सूर्यास्त से ठीक आधा घंटा पहले बड़ के पत्ते पर पांच अलग अलग प्रकार की मिठाईया तथा दो छोटी ईलाइची पीपल के पेड़ के नीचे श्रद्धा भाव से रखे दे और अपनी शिक्षा के प्रति कामना करे।  पीछे मुड़कर न देखे और अपने घर आ जाये। इस प्रकार बिना क्रम छूटे यह प्रयोग तीन बार करे। यह उपाय बच्चे अगर बड़े है खुद करे बच्चा अगर छोटा है और नहीं कर सकता तो बच्चे के माता पिता यह उपाय करे लाभ होगा। 

कानपुर के बारे में ये चार बातें आपने पहले नहीं सुनी होंगी ;


REPORT : ASHISH C TRIPATHI 

कानपुर के बारे में ये चार बातें आपने पहले नहीं सुनी होंगी ;

कानपुर यूँ  अपने आप में न जाने कितने ऐतिहासिक और धार्मिक धरोहर को समेटे हुए है। और साथ ही कभी पूरब के मैनचेस्टर के नाम से भी पुकारा जाता था। यहां पर चलने वाली मिलो में एल्गिन मिल, कटान मिल, लाल इमली आदि प्रमुख मिले थी । जिसमे शहर ही नहीं वरन  कानपुर के आस  पास के जिलों से लोग आकर कर काम किया करते थे।  लेकिन समय के साथ लाल फीता साही और फण्ड की कमी की वजह से यह औद्योयोगिक नगरी धीरे धीरे अपनी औद्योगिक  पहचान छोड़ती चली गई। लेकिन  औद्योगिक अंत के साथ यहाँ शिक्षा का हब भी बनता चला गया।  लेकिन कम ही लोग जानते होंगे की कानपुर  के कुछ अनछुए  पहलु  जो आज से पहले आपने  नहीं सुने होंगे।  

  आज इन्ही अनछुई  जानकारियों से आपको रूबरू कराते है :
  
१- कानपुर  का चिड़िया घर भारत के उन चुनिंदा चिड़िया घरो में से एक है जिसे प्राक्रतिक जंगलो से बनाया गया है। 

२- कानपुर  रामायण काल के कुछ यादे समेटे है जिसको सभी बिठूर में मिले कुछ तथ्यों के आधार पर जानते है लेकिन जाजमऊ के टीले की खुदाई में मिले बर्तनो से इस बात की पुख्ता पुष्टि हुई की कानपुर  रामायण काल के समय का है। कार्बन डेटिंग के मुताबिक उन बर्तनों की उम्र रामायण काल के की है।

३- अगर गोल्फ खेलने के शौक़ीन है तो यह जानकर गर्व होगा की कोलकाता के बाद कानपुर में ही 9 होल गोल्फ हाफ कोर्ट स्थित है। 

४- '' इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ पल्स रिसर्च '' देश का और कानपुर का अपनी  तरह का पहला इंस्टिट्यूट है जिसे भारतीय संस्थान दाल अनुसंधान केंद्र के नाम से भी जाना जाता है। इसकी स्थापना सं 1983  में इंडियन कौंसिल ऑफ़ एग्रीकल्चर रिसर्च द्वारा की गई थी। जिसे केंद्र सरकार द्वारा संचालित किया जाता है।