मंगलवार, 19 जून 2012

मुझे लडकी बना दे


काश उपर वाला मुझे लडकी बना दे 
और फिर मुझे एक लड़की की माँ बना दे |
वो सकून, वो , वो दर्द, कोई मुझे भी दिला दे,
कोई मुझे एक लड़की के कपडे ही पहना  दे ||
मैं भी उसे अपने गर्भ में रखती , उसको महसूस करती
मेरी सांसो से साँस लेती , उस की बातो को महसूस करती 
और नहीं तो कोई मुझे माँ का अस्तित्व ही समझा दे ||

हर दिन   मैं उसका सपना अपनी उसका सपना देखती 
वो दिन भी गिनती जब वो इस संसार  को देखती
कब वो आये कब मुझे माँ बुलाये 
कोई  अपनी बेटी मुझे एक दिन के लिए उधार देदे
वो न हो सके तो मुझे माँ कहने का अधिकार देदे 

 मैं अब असे ही मानता हूँ  आज उसका जनम हो गया   
मेरा एक सपना सपने में ही आज झूठ सा सुच हो गया 
उस को देख देख कर हँसती, फिर उसको सिने से लगा लेती 
कितनी प्यारी गुडिया है , उसके माथे पर कला टिका लगा देती 
हे असमान हे धरती आप ही मुझे महसूस कर व दो 
कोई तो सुने मेरी पुकार मुझे एक लड़की बना दे ||

 हे असमान हर नजरो से से कह दो  मेरी पुकार
हर आदमी से कह दो मेरी ये सदा 
हर मनुष्य से कह दो जो सोचते है मेरी बेटी को ?
कोई तो मुझे इन को बंद करने का अधिकार दिला दो 
 ये न  हो सके  तो  मुझे इस धरती से उठा दो 

काश उपर वाला मुझे लडकी बना दे 
और फिर मुझे एक लड़की की माँ बना दे |

दिनेश पारीक 

38 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी अभिव्यक्ति है!
    ईश्वर आपकी कामना पूरी करें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bahut sunder rachna.....Bhagwan ne her aadmi ko kuch nemte di hai.aise hi ladki ko bhi.sach me matratva ka sukh bahut bada sukh hai.............

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी अभिलाषा की अभिव्यक्ति दिल को छू गई !
    लेकिन-परन्तु है .... सपना देखना जितना मधुर है ....
    सच के धरातल पर कडवी कुनैन है जो असंभव नहीं तो कठिन तो जरुर है .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अर्जी कर मंजूर जब, लड़की दिया बनाय ।

    मची हाय-तोबा गजब, मुश्किल में मर माय ।

    मुश्किल में मर माय, सास ससुरा पति पीटा ।

    किया एक का व्याह, कर्ज में गया घसीटा ।

    बिन व्याहे दो जन्म, अगर है तेरी मर्जी ।

    करे कष्ट आजन्म, सुने ना कोई अर्जी ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर भाव .... पर रविकर जी की बात में भी काफी दम है

    उत्तर देंहटाएं
  6. फिर से चर्चा मंच पर, रविकर का उत्साह |

    साजे सुन्दर लिंक सब, बैठ ताकता राह ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  7. नारी के नम के भाव कों समझने का प्रयास .. कमाल का है ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. किसी अच्छे डॉक्टर से मिलिए. हार्मोन चेक कराइए. ईश्वर ने लिंग परिवर्तन का काम डाक्टरों पर छोड़ दिया है.आपकी मनोकामना पूर्ण हो सकती है. हमारी शुभकामनायें आपके साथ हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ... बेहतरीन ।

    कल 20/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    बहुत मुश्किल सा दौर है ये

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut accha ....maine hmesha yahi chaha tha ki bhagwan pahli santan ke roop me bitiya hi dena aur mery iccha puri hui jo beti ko janm nhi lene dena chahte hain vastav me ve darinde hain...

    उत्तर देंहटाएं
  11. काश ऐसे संभव हो सकता ....अपनी सोच से हर कोई उल्टा ही सोचता हैं ...पर एक औरत का जीवन जीना ......बहुत ही कठिन हैं ...कविता में लिखना और असल जिंदगी को जीना ...बहुत फर्क हैं

    उत्तर देंहटाएं
  12. मातृत्व पाने की उत्कंठा,बहुत अच्छी संकल्प्ना है . बधाई. लिखते रहो. आपकी लेखनी भावनात्मक विचारों को खूबसूरती से व्यक्त करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपने अपने मनोभावों को बखूबी उतारा है अपनी रचना में..

    बधाई
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर मनो भावों को शब्द दिए हैं आपकी भावना सम्मानीय है

    उत्तर देंहटाएं
  15. नारी इश्वर की अनुपम कृति .आपने शब्दों और रचना से सम्मान किया .....बहुत खुबसूरत कथन ...
    लेकिन आप खुद भी अनूठी चीज हैं आप अपना कमाल दिखाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  16. नारी बनने की ख्वाहिश पूरी हो गई तो बडे कष्ट हैं । पर आपने नारी के दर्द को समझा, आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपने नारी के दर्द को समझा..और दर्द को सहने की हिम्मत भी रखना...बहुत बढ़िया..

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच में लेकिन किंतु परंतु तो है...पर जो भगवना ने बना दिया है वो भी ठीक है..तन कोई भी हो संवेंदनशील मन का होना जरुरी है

    उत्तर देंहटाएं
  19. भाव सम्प्रेषण में पूरी तरह कामयाब है यह रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  20. नारी की भावनाए समझने की अच्छी ख्वाहिस,,,,,

    RECENT POST ,,,,फुहार....: न जाने क्यों,

    उत्तर देंहटाएं
  21. नारी मन को बहुत खूब समझा है आपने..
    सुन्दर इक्षा
    सुन्दर रचना....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  22. sir---aapki ye muraad kash upar wala hi sun le.
    bahut bahut hi shandaar tareeke se aapne dwiarthiprastuti ko abhivyakt
    kiya hai.
    ye ladki ko bo bojh samjhne walo ko bhi samajh me aajaye---
    to knya ko janm lene se pahle hi maar dene ki ku-pratha bhi shayad kam ho jaaye
    sadar naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  23. Bahut himmat ka kaam kiya hai aapne par ye sapna bahut dardnaak hai jo dekhta hai vahi samjh sakta hai...2 betiyaan hain dono baar khuda ke ghar se vaapas aayi hun..

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर सृजन , बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारकर अपना स्नेह प्रदान करें, आभारी होऊंगा .

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्रिय धीरेन्द्र जी बहुत सुन्दर ...लेकिन ....बालिका को प्यारा पिता भी तो चाहिए ......काश आप सा ही सब ....यों ही प्यार लुटाएं ....जय श्री राधे
    आभार -भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    उत्तर देंहटाएं
  26. Dheerendra ji,
    aapake sneh kaa aabhaaree hoon,rachana kee snndarata aur sarthakata ke liye badhai.
    प्रिय महोदय

    "श्रम साधना "स्मारिका के सफल प्रकाशन के बाद

    हम ला रहे हैं .....

    स्वाधीनता के पैंसठ वर्ष और भारतीय संसद के छः दशकों की गति -प्रगति , उत्कर्ष -पराभव, गुण -दोष , लाभ -हानि और सुधार के उपायों पर आधारित सम्पूर्ण विवेचन, विश्लेषण अर्थात ...
    " दस्तावेज "

    जिसमें स्वतन्त्रता संग्राम के वीर शहीदों की स्मृति एवं संघर्ष गाथाओं , विजय के सोल्लास और विभाजन की पीड़ा के साथ-साथ भारतीय लोकतंत्र की यात्रा कथा , उपलब्धियों , विसंगतियों ,राजनैतिक दुरागृह , विरोधाभाष , दागियों -बागियों का राजनीति में बढ़ता वर्चस्व , अवसरवादी दांव - पेच तथा गठजोड़ के दुष्परिणामों , व्यवस्थागत दोषों , लोकतंत्र के सजग प्रहरियों के सदप्रयासों तथा समस्याओं के निराकरण एवं सुधारात्मक उपायों सहित वह समस्त विषय सामग्री समाहित करने का प्रयास किया जाएगा , जिसकी कि इस प्रकार के दस्तावेज में अपेक्षा की जा सकती है /

    इस दस्तावेज में देश भर के चर्तित राजनेताओं ,ख्यातिनामा लेखकों, विद्वानों के लेख आमंत्रित किये गए है / स्मारिका का आकार ए -फॉर (11गुणे 9 इंच ) होगा तथा प्रष्टों की संख्या 600 के आस-पा / विषयानुकूल लेख, रचनाएँ भेजें तथा साथ में प्रकाशन अनुमति , अपना पूरा पता एवं चित्र भी / लेख हमें हर हालत में 30 जुलाई 2012 तक प्राप्त हो जाने चाहिए ताकि उन्हें यथोचित स्थान दिया जा सके /

    हमारा पता -

    जर्नलिस्ट्स , मीडिया एंड राइटर्स वेलफेयर एसोसिएशन

    19/ 256 इंदिरा नगर , लखनऊ -226016



    ई-मेल : journalistsindia@gmail.com

    मोबाइल 09455038215

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति। मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. स्त्री के सभी अनुभवों को पाना हर पुरुष चाहता है पर सच में स्त्री-जीवन जीना बहुत कठिन है. लड़की बनने की चाह और फिर लड़की की माँ बनने की चाह, बहुत सुन्दर रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं