रविवार, 12 अगस्त 2012

मंजिल हर रोज़ वो हमें बुला लेती है


 हर रोज़  कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते  है
हम वही पर  पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते   हैं
हल्का हल्का सा आँखों को एहसास होता है
छलकती है मेरी भी आँखों से नमी
जब दिन और रात बदल कर सपनो की मंजिल बदल जाती है ||
कभी  कभी कहता है मन काश ये सपने न होते
काश ये दर्द अ शोकत न होती
मंजिल मिले या न मिले पर
हो न हो ये  सपनो की शोहबत न होती
आज फिर न जाऊ ये तो हर रोज कहता हूँ
पर हर रोज़ ऑंखें भीग कर मुकर जाती है ||
पोछने का सिलसिला तो भूल गया हूँ
पर ये हर रोज़ सिकुड़ जाती है ||
फासला तो हाथ दो हाथ का ही रहता है पर ?
हर रोज़ की तरह मंजिल भी हमें भूल जाती है
काश वो दो पल सकून के हमें भी दे देती
जब पास हम उनके होते
काश  देखने का नज़ारा हमें भी मिले
 जब पास होते
पर हर रोज़ वो पास आकर धुधली पड़ जाती है
हर रोज़  कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते  है ||
हम तो जाते भी नहीं पर
हर रोज़ वो हमें बुला लेती है  जाता हूँ पास तो
अपने आपको  मिटटी की तरह मिटा लेती है
 हर रोज़  कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते  है
हम वही पर  पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते   हैं





31 टिप्‍पणियां:

  1. यूँ कारवां चलता रहे ये कश्तियाँ पतवार हों .
    हम रहें या न रहें ये भंवर न मझधार हो ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन की इस रीत को बाखूबी लिखा है ...
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. और यूं ही चलती रहती है ज़िंदगी एक दरिया की तरह ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. जन्माष्टमी के मौके पर सबको शुभकामनाएं.

    आपका हार्दिक स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. यही जीवन की रीत है..उम्दा!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं... waah

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिन्दगी का एक नजरिया.... मन के भावों को सुन्दर शब्द बध किया है बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं
    behad khubsurat andaj, sarthak pratuti

    उत्तर देंहटाएं
  9. फासला तो हाथ दो हाथ का ही रहता है पर ?
    हर रोज़ की तरह मंजिल भी हमें भूल जाती है

    ...बहुत खूब! सुन्दर भावमय अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर.....
    कोमल एहसासों की प्यारी सी अभिव्यक्ति...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज 14/08/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत गहरे भाव...
    हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं
    शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  13. फासला तो हाथ दो हाथ का ही रहता है पर ?
    हर रोज़ की तरह मंजिल भी हमें भूल जाती है

    sundar avm prabhavshali rachana ke liye abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  14. "हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं"

    ज़िंदगी में यह खोना-पाना ही ज़िंदगॊ को आशा की डोर से बाँधे रहता है!
    बहुत सुंदर रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. "हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं"

    ज़िंदगी में यह खोना-पाना ही ज़िंदगॊ को आशा की डोर से बाँधे रहता है!
    बहुत सुंदर रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. "हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं"

    ज़िंदगी में यह खोना-पाना ही ज़िंदगॊ को आशा की डोर से बाँधे रहता है!
    बहुत सुंदर रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं
    बेहद सुन्दर पंक्तियाँ हेँ ..बस वर्त्निकी भूलें देख लें ..मन मोहने वाला ब्लॉग

    उत्तर देंहटाएं
  18. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  19. जीवन का संपूर्ण दर्शन
    अच्छी रचना, बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब लिखा है आपने। बधाई।

    ईद की दिली मुबारकबाद।
    ............
    हर अदा पर निसार हो जाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. हर रोज़ कश्तिया डूबती है तो कभी सपने टूट जाते है
    हम वही पर पानी पे खड़े रहे जहाँ ये सपने छुट जाते हैं"
    behatreen!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  23. काश वो दो पल सकून के हमें भी दे देती.
    See
    http://praveenshah.blogspot.com/2012/08/blog-post_21.html

    उत्तर देंहटाएं
  24. कुछ पुरानी कश्तियां डूबती हैं कुछ नई आ जाती हैं यही है जीवन ।

    उत्तर देंहटाएं