शनिवार, 2 मार्च 2013

पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

कोन  सुनेगा  मेरा दर्द 
टिका  कर रखती है
पृथिवी हमें और कंपाती भी,
है  जल  धरा  के बरसनेपर 
बरसता गगन से
जल और अग्नि, पवन देता ठिठुरन
और चक्रवात
सब  कितनी  सहजता  से  हो जाता है 
कभी हम भी वशीभूत  हो जाते  है 
इस धरा  पर  
फूलो  के महकने  से लेकर 
मुरझाने  तक  सहना 
पानी  बरसने  से लेकर 
सूखने  तक  सहना 
पेड़ो   के अकुर  फूटने  से लेकर 
पेड़  बनते  देखना 
फिर उसी  पेड़  को कटने  देखना 
और  अपने ही अंग  को  अपने ही बेटे  की चिता 
 के साथ दोनों के जलते देखना 
क्या इस पृथिवी के लिए  इतना सहज  है 
सहज  ये सहज शब्द  ही हम कितनी  सहज 
से उपयोग  मैं ले लेते है 
कभी ये सहज  शब्द  माँ   बहिन  बेटी 
अर्धांगिनी  के लिए हम  बड़ी आसानी 
से उपयोग  मैं लाते  हैं 
कभी नहीं सोचते 
की वो  इस दर्द  भरे  शब्द  को सुनकर 
क्या सहज  महसूस  करती है 
वो भी तो  हमारे  लिए  एक धरा  है 
उसी  के अंग  से हमारे  अंग है
पता नही नहीं कब तक ये सहज शब्द 
वो  सह सकेगी   ये भी तो द्रोपती  ही है 
कब ये द्रोपती  बन जाये  फिर  
एक महाभारत  हो जाये 

महाभारत
होता है जीवन
हर किसी का भीतर भी,
बाहर भी बैठे हैं नकृष्ण
सबके भीतर,
कह रहे गीता
सबको अपनी-अपनी
सुन सकते हो इसको तुम भी
अर्जुन बनकर।
दिनेश पारीक 



28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर रचना की प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति दिनेश जी

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति |
    आभार आपका -

    जवाब देंहटाएं
  4. सुंदर प्रस्तुति .....सजीव रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना .....बहुत भावपूर्ण
    ब्लॉग की मुलाक़ात के लिए शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहद भावपूर्ण रचना...

    जवाब देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. आभार, अभिनन्दन है आपका, पुनः यहाँ मिलते रहिये।

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. आभार, अभिनन्दन है आपका, पुनः यहाँ मिलते रहिये।

      हटाएं
  9. आप की ये खूबसूरत रचना शुकरवार यानी 8 मार्च की नई पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...
    आप भी इस हलचल में आकर इस की शोभा पढ़ाएं।
    भूलना मत

    htp://www.nayi-purani-halchal.blogspot.com
    इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है।

    सूचनार्थ।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर संदेशपरक रचना

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रकृति के दर्द की सही अभिव्यक्ति....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार, अभिनन्दन है आपका, पुनः यहाँ मिलते रहिये।

      हटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
    एक गहरी सोच !
    आभार !

    जवाब देंहटाएं
  13. आपने बहुत सहजता से दर्द को रेखांकित किया। बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  14. गहरी अभिव्यक्ति..... बहुत उम्दा

    जवाब देंहटाएं
  15. गहरा अर्थ लिए ... अच्छी रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  16. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  17. गंबीर भावों से ओतप्रोत प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  18. बेह्तरीन अभिव्यक्ति !शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं