शनिवार, 28 जुलाई 2012

वो चाँद


लम्हा लम्हा गुजरता रहा , चाँद भी मंद मंद चलता रहा
छटते रहे गमो के बादल   आँखों मैं सेलाब उमड़ता रहा
चाँद  भी आज अपनी फलक  पे  था
हम धरती पे थे मेरा मन आसमान पे था
कुछ यादगार लम्हों के करीब पंहुचा ही था  की ?
चिडियों की चहचहाने की आवाज़ आने लगी
कुछ अधुरा २ सा लगता है , कुछ मन गमसुम सा
चोराहे पे खुशिया है  खिड़किया बंद पड़ी है
आज चाँद नज़र आया नहीं मैं यु ही जलता रहा

24 टिप्‍पणियां:

  1. चोराहे पे खुशिया है खिड़किया बंद पड़ी है
    आज चाँद नज़र आया नहीं मैं यु ही जलता रहा

    खिड़कियों का खुलना जरुरी है ...
    गहन भाव .. सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल 29/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (29-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल को छू गयी आप की रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह....
    बहुत सुन्दर रचना......

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. चौराहे पे खुशिया है, खिड़किया बंद पड़ी है(देर क्यूँ ,मौका बार-बार नहीं मिलता)
    आज चाँद नज़र आया नहीं मैं यूँही जलता रहा(कल भी आयेगा)

    रचना बहुत सुन्दर हैं .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ यादगार लम्हों के करीब पंहुचा ही था की ?
    चिडियों की चहचहाने की आवाज़ आने लगी

    दिल को छू गयी आप की रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी रचना बहुत गहन अर्थों को लिए हुए, मन के बंधों को छूकर निकली है, बधाई अच्छे लेखन के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  9. चाँद देखना हो तो खिड़कियाँ खुली होनी चाहियें .. मन की भी ...
    भाव लिए रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. चोराहे पे खुशिया है खिड़किया बंद पड़ी है
    आज चाँद नज़र आया नहीं मैं यु ही जलता रहा

    मन को छू लेने वाली रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  11. भाई साहब अच्छी अभिव्यंजना है चार चाँद लग जाएँ यदि कुछ ऐसा हो जाए -कुछ अधूरा अधूरा सा लगता है ,कुछ मन गुमसुम सा ,चौराहे पे खुशियाँ ,खिड़कियाँ बंद पड़ी हैं ,आज चाँद नजर आया नहीं ,मैं यूं ही जलता रहा .....शुक्रिया .
    कुछ अधुरा २ सा लगता है , कुछ मन गमसुम सा
    चोराहे पे खुशिया है खिड़किया बंद पड़ी है
    आज चाँद नज़र आया नहीं मैं यु ही जलता रहा

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  13. कान्हा जी के जन्मदिवस की हार्दिक बधाइयां ..
    हम सभी के जीवन में कृष्ण जी का आशीर्वाद सदा रहे...
    जय श्री कृष्ण ..

    उत्तर देंहटाएं