मंगलवार, 19 जून 2012

मुझे लडकी बना दे


काश उपर वाला मुझे लडकी बना दे 
और फिर मुझे एक लड़की की माँ बना दे |
वो सकून, वो , वो दर्द, कोई मुझे भी दिला दे,
कोई मुझे एक लड़की के कपडे ही पहना  दे ||
मैं भी उसे अपने गर्भ में रखती , उसको महसूस करती
मेरी सांसो से साँस लेती , उस की बातो को महसूस करती 
और नहीं तो कोई मुझे माँ का अस्तित्व ही समझा दे ||

हर दिन   मैं उसका सपना अपनी उसका सपना देखती 
वो दिन भी गिनती जब वो इस संसार  को देखती
कब वो आये कब मुझे माँ बुलाये 
कोई  अपनी बेटी मुझे एक दिन के लिए उधार देदे
वो न हो सके तो मुझे माँ कहने का अधिकार देदे 

 मैं अब असे ही मानता हूँ  आज उसका जनम हो गया   
मेरा एक सपना सपने में ही आज झूठ सा सुच हो गया 
उस को देख देख कर हँसती, फिर उसको सिने से लगा लेती 
कितनी प्यारी गुडिया है , उसके माथे पर कला टिका लगा देती 
हे असमान हे धरती आप ही मुझे महसूस कर व दो 
कोई तो सुने मेरी पुकार मुझे एक लड़की बना दे ||

 हे असमान हर नजरो से से कह दो  मेरी पुकार
हर आदमी से कह दो मेरी ये सदा 
हर मनुष्य से कह दो जो सोचते है मेरी बेटी को ?
कोई तो मुझे इन को बंद करने का अधिकार दिला दो 
 ये न  हो सके  तो  मुझे इस धरती से उठा दो 

काश उपर वाला मुझे लडकी बना दे 
और फिर मुझे एक लड़की की माँ बना दे |

दिनेश पारीक