शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2012

पत्नियाँ

डूबती इक नाव होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में मुस्कुराती पत्नियाँ।

बेसुरा संगीत होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में गुनगुनाती पत्नियाँ।

गूंजता अट्टहास होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में खिलखिलाती पत्नियाँ।

मौन सा आकाश होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में गीत गातीं पत्नियाँ।

खाली बर्तन जैसे बजती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में टनटनाती पत्नियाँ।

बिन मसाला मिर्च होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में सनसनाती पत्नियाँ।

कितनी बेआवाज होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में खनखनाती पत्नियाँ।

रेंगती रफ़्तार होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में सरसराती पत्नियाँ।

बंधा बिस्तरबंद होती आदमी की जिंदगी,
ग़र न होतीं जिंदगी में कुरमुराती पत्नियाँ।