मंगलवार, 4 अक्तूबर 2011

तुम बोना कांटे

तुम बोना कांटे
तुम बोना कॉंटे;
क्योंकि फूल न पास तुम्हारे।
बो सकते हो
वही सिर्फ जो
उगता दिल में;
चरण पादुका
ही बन सकते
तुम महफिल में।
न देव शीश पर चढ़ते कॉंटे
सॉंझ सकारे ।
हॅंसी किसी की
अरे पल भर भी
सह न पाते;
और बिलखता देख किसी को
तुम मुस्काते ।
जो डूबते
उनको देखा
बैठ किनारे।
जीवन देकर भी है हमने
जीवन पाया;
अपने दम से
रोता मुखडा
भी मुस्काया।
र्सौ सौ उपवन
खिले हैं मन में;
तभी हमारे।

13 टिप्‍पणियां:

  1. These are impressive articles. Keep up the noble be successful.

    India is a land of many festivals, known global for its traditions, rituals, fairs and festivals. A few snaps dont belong to India, there's much more to India than this...!!!.
    visit here for India

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर भावों की सुंदर अभिव्यक्ति ...
    बहुत बधाई ...
    मेरे ब्लॉग पर आने और अपने सुंदर विचार रखने के लिए बहुत शुक्रिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच्चाई को बयाँ करती हुई रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रिय दिनेश जी बहुत प्यारी पंक्ति उत्तम सन्देश
    भ्रमर ५
    जीवन देकर भी है हमने
    जीवन पाया;
    अपने दम से
    रोता मुखडा
    भी मुस्काया।
    र्सौ सौ उपवन
    खिले हैं मन में;
    तभी हमारे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही अच्छी और भावपूर्ण रचना,बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरत रचना...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं