मंगलवार, 25 जून 2013

मुझे माँ बना दे


काश उपर वाला मुझे लडकी बना दे
और फिर मुझे एक लड़की की माँ बना दे |
वो सकून, वो , वो दर्द, कोई मुझे भी दिला दे,
कोई मुझे एक लड़की के कपडे ही पहना  दे ||
मैं भी उसे अपने गर्भ में रखती , उसको महसूस करती
मेरी सांसो से साँस लेती , उस की बातो को महसूस करती
और नहीं तो कोई मुझे माँ का अस्तित्व ही समझा दे ||

हर दिन   मैं उसका सपना अपनी उसका सपना देखती
वो दिन भी गिनती जब वो इस संसार  को देखती
कब वो आये कब मुझे माँ बुलाये
कोई  अपनी बेटी मुझे एक दिन के लिए उधार देदे
वो न हो सके तो मुझे माँ कहने का अधिकार देदे

 मैं अब असे ही मानता हूँ  आज उसका जनम हो गया
मेरा एक सपना सपने में ही आज झूठ सा सुच हो गया
उस को देख देख कर हँसती, फिर उसको सिने से लगा लेती
कितनी प्यारी गुडिया है , उसके माथे पर कला टिका लगा देती
हे असमान हे धरती आप ही मुझे महसूस कर व दो
कोई तो सुने मेरी पुकार मुझे एक लड़की बना दे ||

 हे असमान हर नजरो से से कह दो  मेरी पुकार
हर आदमी से कह दो मेरी ये सदा
हर मनुष्य से कह दो जो सोचते है मेरी बेटी को ?
कोई तो मुझे इन को बंद करने का अधिकार दिला दो
 ये न  हो सके  तो  मुझे इस धरती से उठा दो

काश उपर वाला मुझे लडकी बना दे
और फिर मुझे एक लड़की की माँ बना दे |

दिनेश पारीक

7 टिप्‍पणियां:

  1. लड़की होने का दर्द लड़की बन के ही समझा जा सकता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी कल्पना और सोच के साथ रचित रचना...वास्तव में हम जबतक उस जगह पर होकर नहीं देखते, हमें वास्तविकता और उस अहसास का पता नहीं चलता...अच्छी रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई...
    @मानवता अब तार-तार है

    उत्तर देंहटाएं
  3. सचमुच दिल का हाल समझता वही है जिसके सीने पे चोट लगाती है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे दर पे भी आइये कभी

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति ।।।

    उत्तर देंहटाएं


  6. दिल छू लेने वाली अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं